दिल्ली में प्रतिबंध के बावजूद जमकर हुई आतिशबाजी, नहीं दिखी पुलिस की सख्ती, पसरी धुएं की चादर


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

देश की राजधानी दिल्ली में प्रतिबंध होने के बावजूद भी जमकर आतिशबाजी हुई। दिल्ली के साउथ एक्सटेंशन इलाके में लोग पटाखे जलाते हुए कैमरे में कैद हो गए। पूर्वी दिल्ली के पांडव नगर इलाके में लोगों ने दिवाली पर जमकर पटाखे जलाए। इस दौरान पुलिस की सख्ती नहीं दिखाई दी। 

पटाखों के प्रदूषण की वजह से कॉलोनियों में धुएं की चादर पसर गई। सड़कों से लेकर कॉलोनियों में पटाखों की अवैध बिक्री व उपयोग किया गया। ग्रीन पटाखों की जगह प्रदूषण फैलाने वाले अधिक पटाखों का प्रयोग हुआ। जिसके बाद दिल्ली-एनसीआर में शनिवार को प्रदूषण गंभीर स्तर पर पहुंच गया है। 
आपको बता दें कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने दिल्ली-एनसीआर में 30 नवंबर तक सभी तरह के पटाखों की बिक्री या उपयोग के खिलाफ प्रतिबंध लगा रखा है।

दिल्ली में रात 10 बजे का एक्यूआई 454 था। जबकि शनिवार शाम को फरीदाबाद का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 378, गाजियाबाद का 456, ग्रेटर नोएडा का 394 और गुरुग्राम का 358 दर्ज किया गया था। 
 

इससे पहले शनिवार की सुबह दिल्ली में वायु गुणवत्ता का स्तर बेहद खराब श्रेणी में रहा। सरकारी एजेंसियों और मौसम विज्ञान विशेषज्ञों के मुताबिक पटाखे जलने और हवा की गति मंद होने से यह वायु गुणवत्ता गंभीर श्रेणी में भी जा सकती है।

वहीं, आईएमडी के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण रविवार को हल्की बारिश भी हो सकती है। उन्होंने कहा कि दिवाली के बाद हवा की गति बढ़ने से दिल्ली-एनसीआर में वायु गुणवत्ता में सुधार हो सकता है। रविवार को हवा की अधिकतम गति 12 से 15 किलोमीटर प्रति घंटा रहने की उम्मीद है।

 

देश की राजधानी दिल्ली में प्रतिबंध होने के बावजूद भी जमकर आतिशबाजी हुई। दिल्ली के साउथ एक्सटेंशन इलाके में लोग पटाखे जलाते हुए कैमरे में कैद हो गए। पूर्वी दिल्ली के पांडव नगर इलाके में लोगों ने दिवाली पर जमकर पटाखे जलाए। इस दौरान पुलिस की सख्ती नहीं दिखाई दी। 

पटाखों के प्रदूषण की वजह से कॉलोनियों में धुएं की चादर पसर गई। सड़कों से लेकर कॉलोनियों में पटाखों की अवैध बिक्री व उपयोग किया गया। ग्रीन पटाखों की जगह प्रदूषण फैलाने वाले अधिक पटाखों का प्रयोग हुआ। जिसके बाद दिल्ली-एनसीआर में शनिवार को प्रदूषण गंभीर स्तर पर पहुंच गया है। 

आपको बता दें कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने दिल्ली-एनसीआर में 30 नवंबर तक सभी तरह के पटाखों की बिक्री या उपयोग के खिलाफ प्रतिबंध लगा रखा है।

दिल्ली में रात 10 बजे का एक्यूआई 454 था। जबकि शनिवार शाम को फरीदाबाद का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 378, गाजियाबाद का 456, ग्रेटर नोएडा का 394 और गुरुग्राम का 358 दर्ज किया गया था। 
 





Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*