नहीं थम रहा कोरोना का कहर! तमिलनाडु में 2 हफ्ते के लिए संपूर्ण कर्फ्यू


Coronavirus Lockdown in India LIVE Updates: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को कहा कि दिल्ली में कोविड-19 टीकाकरण केंद्रों की संख्या तीन गुना बढ़ायी जाएगी और उन्होंने केंद्र से अगले तीन महीने में राष्ट्रीय राजधानी में सभी लोगों को टीका लगाने के लिए करीब 2.6 करोड़ टीकों की आपूर्ति करने की मांग की। उन्होंने एक ऑनलाइन ब्रीफिंग में कहा कि अभी दिल्ली में 100 केंद्रों में टीकाकरण अभियान चल रहा है। दिल्ली सरकार केंद्रों की संख्या 250-300 तक बढ़ाएगी। केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में सभी लोगों को टीका लगाने के लिए तीन करोड़ से अधिक टीकों की आवश्यकता है जिनमें से करीब 40 लाख खुराक मिल चुकी हैं।

मुख्यमंत्री ने केंद्र से हर महीने 85 लाख टीके उपलब्ध कराने का आग्रह किया ताकि सभी दिल्लीवासियों को अगले तीन महीनों में टीका लगाया जा सके। उन्होंने कहा कि दिल्ली में अच्छी व्यवस्था होने के कारण एनसीआर के शहरों जैसे कि नोएडा, गाजियाबाद से भी लोग यहां टीका लगाने के लिए आ रहे हैं इसलिए दिल्ली को तीन करोड़ से थोड़े ज्यादा टीकों की आवश्यकता पड़ेगी। उन्होंने कहा कि दिल्ली में अगले पांच-छह दिनों के लिए टीके हैं और उन्होंने केंद्र से पर्याप्त टीके उपलब्ध कराने का अनुरोध किया।

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में हर दिन एक लाख टीके लग रहे हैं और यह संख्या तीन लाख तक बढ़ सकती है। कोविड-19 की तीसरी लहर की चेतावनियों का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि इस जानलेवा वायरस से बचने के लिए टीका ही एकमात्र उपाय है। उन्होंने केंद्र और विशेषज्ञों से 18 साल से कम उम्र के बच्चों को भी टीका लगाने के विकल्प तलाशने का भी अनुरोध किया।

उधर, शिवसेना ने शनिवार को कहा कि कोविड-19 से निपटने में जहां पड़ोस के छोटे देश भारत को मदद की पेशकश कर रहे हैं वहीं मोदी सरकार कई करोड़ के सेंट्रल विस्टा परियोजना के काम को रोकने के लिए भी तैयार नहीं है। पार्टी ने यह भी कहा कि पंडित जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी और मनमोहन सिंह समेत पूर्व प्रधानमंत्रियों द्वारा पिछले 70 वर्ष में बनाई गई व्यवस्था ने देश को कठिन समय से पार पाने में मदद की है जिसका सामना वह आज कर रहा है।

शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ के एक संपादकीय में कहा, “यूनिसेफ ने डर व्यक्त किया है कि भारत में जिस गति से कोरोना वायरस फैल रहा है उससे दुनिया को वायरस से खतरा है। इसने यह भी अपील की है कि अधिकतम देशों को कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत की मदद करनी चाहिए। बांग्लादेश ने रेमडेसिविर की 10,000 शीशियां भेजी हैं जबकि भूटान ने चिकित्सीय ऑक्सीजन। नेपाल, म्यांमा और श्रीलंका ने भी ‘आत्मनिर्भर’ भारत की मदद की पेशकश की है।”

बता दें कि देश में एक दिन में कोविड-19 के 4,01,078 नये मामले सामने आने के बाद संक्रमण के कुल मामले 2,18,92,676 हुए, 4,187 मरीजों की मौत के बाद मृतक संख्या 2,38,270 पर पहुंची। यह जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से शनिवार सुबह दी गई। साथ ही बताया गया कि देश में कोविड-19 का इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 37,23,446 दर्ज की गई है।



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*