पतंजलि के खेतों का कामकाज संभालते हैं बाबा रामदेव के पिता


योग गुरु और पतंजलि आयुर्वेद कंपनी के संस्थापक बाबा रामदेव अकसर चर्चा में रहते हैं, लेकिन उनके परिवार को लेकर ज्यादा बात नहीं होती। खासतौर पर उनके माता-पिता के बारे में बहुत कम ही चर्चा होती है। भले ही बाबा रामदेव का पैतृक गांव हरियाणा के महेंद्रगढ़ जिले में है, लेकिन उनके माता-पिता भी हरिद्वार में ही रहते हैं। बिजनेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट के मुताबिक बाबा रामदेव के छोटे भाई राम भरत यादव पतंजलि का दैनिक कामकाज संभालते हैं। वहीं उनके पिता रामनिवास यादव पतंजलि आयुर्वेद के खेतों का काम संभालते हैं। हालांकि आधिकारिक तौर पर उन्हें कोई जिम्मेदारी नहीं दी गई है। यही नहीं बाबा रामदेव की मां भी हरिद्वार में ही रहती हैं।

बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद के कामकाज में उनके परिवार के कई सदस्यों की भूमिका है। जैसे उनके छोटे भाई राम भरत की पत्नी स्नेहलता भी पतंजलि आयुर्वेद का हिस्सा हैं। वह ग्रुप की कई कंपनियों में डायरेक्टर के तौर पर शामिल हैं। इसके अलावा योग गुरु की छोटी बहन ऋतंभरा भी पतंजलि की कंपनियों में डायरेक्टर हैं। यही नहीं उनके पति यशदेव शास्त्री भी पतंजलि समूह की दो कंपनियों में डायरेक्टर हैं और ग्रुप को सरसों के बीज सप्लाई का काम करते हैं। हालांकि इन सबके बीच राम भरत का कद तेजी से बढ़ा है। अब तक वह बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण को रिपोर्टिंग करते थे और पतंजलि के दैनिक कामकाज को संभालते थे। लेकिन अब वह रुचि सोया के मैनेजिंग डायरेक्टर भी हैं।

यह पहला मौका है, जब राम भरत को पतंजलि आयुर्वेद समूह में कोई आधिकारिक पद सौंपा गया है। पतंजलि आयुर्वेद के एक कर्मचारी ने बिजनेस स्टैंडर्ड से बातचीत में कहा, ‘भरत भाई सुबह ही काम शुरू करते हैं और ऑफिस से सबसे बाद में घर जाते हैं। वह एक तरह से 24x7x365 कर्मचारियों के लिए उपलब्ध रहते हैं। वह हमेशा आपका स्वागत एक मुस्कान के साथ करते हैं और दिन के किसी भी वक्त मुलाकात के लिए तैयार रहते हैं।’

पतंजलि ग्रुप के एक पूर्व सीनियर अधिकारी ने कहा कि राम भरत दिन में कई मीटिंगों का हिस्सा होते हैं। यहां तक कि बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण दोनों मिलकर जितनी मीटिंग्स में शामिल होते हैं, उससे ज्यादा बैठकों का हिस्सा राम भरत होते हैं। बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण की तरह ही राम भरत ने भी बिजनेस की कोई औपचारिक ट्रेनिंग नहीं ली है।

हालांकि उनके करीबी कहते हैं कि वह चीजों को बेहद आसानी से समझ लेते हैं और पूरे गेमप्लान को लागू करने में अहम भूमिका अदा करते हैं। कंपनी के इनसाइडर्स के मुताबिक रामदेव और बालकृष्ण गेम प्लान तैयार करते हैं, लेकिन उसे लागू करने का काम राम भरत करते हैं। किसी भी रणनीति के हिसाब से दैनिक कामकाज में बदलाव और क्वॉलिटी मेंटेनेंस के काम को राम भरत ही देखते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। में रुचि है तो








Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*