बनारस में गंगा वही, बस कम हो रहा बनारसीपन: संजय मिश्र



बनारस में गंगा वही है, लेकिन बनारसीपन घटता जा रहा है… गंगा किनारे घंटे व घड़ियाल की आवाजें धीमी पड़ने लगी हैं। गलियों में खद्दर के धोती-कुर्ता और मुंह में पान दबाए लोग भी कम दिखाई देते हैं। बनारस…



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*