बुजुर्ग दोस्त की याद में 10 साल का मैक्स 200 दिनों से टेंट में सो रहा, कहा; दोस्त ने कहा था असली एडवेंचर सिर्फ प्रकृति के बीच रहकर महसूस किया जा सकता है


  • Hindi News
  • Happylife
  • 10 year old Max Has Been Sleeping In A Tent For 200 Days In Memory Of An Old Friend, Friend

4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • इंग्लैंड के मैक्स वूसे की अपने पड़ोस में रहने वाले 74 साल के रिक से गहरी दोस्ती थी
  • फरवरी में रिक की कैंसर से मौत हुई तो उनकी प्रकृति प्रेम से जुड़ी बातों को याद कर टेंट में सोने लगे मैक्स

यह कहानी दो दोस्तों की है। इनमें एक अब इस दुनिया में नहीं है। और उसी की याद में दूसरा दोस्त पिछले 200 दिनों से टेंट में सो रहा है। इंग्लैंड के शहर ब्रॉनटॉन में रहने वाले 10 साल के मैक्स वूसे की अपने पड़ोस में रहने वाले 74 साल के रिक से गहरी दोस्ती थी। रिक की पत्नी की 2017 में मौत हो गई थी और इस साल फरवरी में रिक की भी कैंसर से मौत हो गई थी। रिक के बीमारी से जूझते आखिरी दिनों में मैक्स उसके साथ रहा। अब रिक की याद में मैक्स टेंट में सोता है।

रिक की इच्छा को पूरा कर रहा मैक्स
मैक्स बताता है कि रिक की इच्छा थी कि वह प्रकृति के बीच रहे। पेड़-पौधों से लगाव रखे। रिक ने कहा था कि नेचर के बीच रहकर तुम खुद को जान सकोगे। जिंदगी में असली एडवेंचर सिर्फ प्रकृति के बीच रहकर महूसस किया जा सकता है। फरवरी में लॉकडाउन के बाद से मैक्स रात में अपने घर के बगीचे में लगे टेंट में ही सो रहा है।

सर्दियों के कारण पिता टेंट की जगह कैंपिंग गियर लगाएंगे
मैक्स के दिन की शुरुआत सुबह-सुबह पंछियों की चहचहाहट से शुरू होती है। वह प्राकृतिक हवा का आनंद ले रहा है। हालांकि उसके टेंट में चींटियों ने एक बिल बना लिया है, जिससे वह थोड़ा परेशान है और अब सर्दियों के कारण उसके पिता टेंट के स्थान पर कैंपिंग गियर लगाने वाले हैं।

यहां देर रात कॉमिक्स पढ़ने पर कोई टोकता नहीं
मैक्स मज़ाक में कहता है कि यहां सोने का एक फायदा यह भी है कि उसे देर रात तक कॉमिक्स पढ़ने पर उसके माता-पिता नहीं टोक पाते। टेंट में सोने के कारण वह अब देर रात तक टीवी भी नहीं देख पाता और गैजेट्स से भी दूर रहता है। मैक्स ने रिक की देखभाल करने वाले नॉर्थ डेवोन हॉस्पिटल के लिए ऑनलाइन 15 लाख रुपए भी जुटाए हैं।



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*