भूल जाइए बीमारी-बेरोजगारी, करें चुनाव की तैयारी- पुण्य प्रसून बाजपेयी का मोदी सरकार पर तंज


वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। आए दिन बाजपेयी अपने पोस्ट के जरिए मोदी सरकार पर निशाना साधते रहते हैं। इस बार भी अपने एक पोस्ट पर वह मोदी सरकार पर तंज करते दिख रहे हैं। पुण्य प्रसून बाजपेयी कहते हैं- ‘भूल जाइए बीमारी, भूल जाइए बेरोजगारी, आइए करें चुनाव की तैयारी।’

अपने इस पोस्ट के साथ बाजपेयी ने एक वीडियो लिंक भी शेयर किया जिसमें वह कहते दिखे- ‘आजाद भारत में अगर भारत किसी की गुलामी करता है तो वो है चुनावी राजनीति। चुनावी राजनीति की डुगडुगी बजा दीजिए औऱ उसके बाद देखिए..। आपको शिक्षा नहीं मिल पा रही है। कोई व्यवस्था या इंफ्रास्ट्रक्चर है कि नहीं, कोई मायने नहीं रखता है। आपको इलाज भी मिल पाता है या नहीं?’

बाजपेयी वीडियो में कहते हैं- ‘देश में महामारी फैली हुई है, लोग मर रहे हैं। मुआवजा तक देने का पैसा नहीं है। देश कर्ज में डूबा है। राज्य कंगाल हो चले हैं। लेकिन ये सब कोई मायने नहीं रखता है। क्योंकि चुनावी डुगडुगी बजते ही इसदेश के भीतर के तमाम संवैधानिक संस्थान उस डुगडुगी पर नाचने लगते हैं। यहां मान लिया जाता है कि लोकतंत्र यही है।’

उन्होंने आगे कहा- ‘चाहे इस देश में कंगाली की स्थिति आ जाए। चुनाव दर चुनाव होते हैं लेकिन राज्य कैसे कंगाल हो जाते हैं? किसी जगह पर चुनाव के बाद भी कुछ नहीं बदलता है, किसी जगह पर सत्ता बदल जाती है लेकिन फिर भी किसी को कुछ नहीं मिलता।’

पुण्य प्रसून बाजपेयी आगे कहते हैं- ‘तो भारत को राजनीति की भट्टी में झोंकने की तैयारी एक बार फिर हो चली है। 2022, दरअसल ये एक ऐसा चुनावी वर्ष है जिसमें 6 राज्यों में चुनाव होगा। 5 राज्यों के चुनाव तो 2022 शुरू होते ही नजर आएंगे। इसमें उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा। करीब 17 करोड़ से ज्यादा लोग वोट डालेंगे। साल बीतते बीतते अक्तूबर-नवंबर तक गुजरात में चुनाव की डुगडुगी बज जाएगी।’








Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*