मन को पवित्र करती हैं मां महागौरी 


पावन नवरात्र में अष्टमी के दिन मां महागौरी की उपासना की जाती है। मां महागौरी, भगवान शिव की पत्नी हैं और शिवा, शाम्भवी नाम से पूजित हैं। मां को श्वेताम्बरधरा भी कहा गया है। मां महागौरी की आराधना से मन की पवित्रता बढ़ती है और सकारात्मक ऊर्जा में वृद्धि होती है। मन एकाग्र होता है। मां की उपासना से सौंदर्य प्राप्त होता है। अष्टमी के दिन कन्या पूजन श्रेष्ठ माना जाता है। 

मां का स्वभाव अति शांत है। मां की पूजा से दांपत्य जीवन, व्यापार, धन और सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है। नृत्य, कला और अभिनय में कॅरियर बनाने वाले लोगों को मां महागौरी की उपासना अवश्य करनी चाहिए। माता की उपासना से त्वचा से जुड़े रोग दूर हो जाते हैं। मां की कृपा से अलौकिक सिद्धियों की प्राप्ति होती है। अष्टमी को मां महागौरी की आराधना से सौभाग्य की प्राप्ति होती है। अष्टमी के दिन मां की पूजा कन्या रूप में की जाती है। हाथ में श्वेत पुष्प लेकर मां का ध्यान करें। मां महागौरी को श्वेत रंग के वस्त्र और पुष्प प्रिय हैं। अष्टमी के दिन महिलाएं अपने सुहाग की रक्षा के लिए मां को चुनरी भेंट करती हैं। मां की कृपा से असंभव कार्य भी संभव हो जाते हैं। अष्टमी पूजन से सुखों की प्राप्ति होती है। अष्टमी को मां का पूजन कर रात्रि जागरण करें। 

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।
 



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*