यूपी हाथरस घटना के विरोध में कांग्रेस 26 अक्तूबर को करेगी देशभर में प्रदर्शन


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली

Updated Sun, 18 Oct 2020 06:00 PM IST

प्रियंका और राहुल गांधी
– फोटो : पीटीआई

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

उत्तर प्रदेश के हाथरस की घटना के विरोध में कांग्रेस 26 अक्तूबर को देशभर में प्रदर्शन करेगी। इस बात की जानकारी पार्टी सूत्रों ने दी है। सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस 31 अक्तूबर को जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन करेगी।

हाथरस प्रकरण में सीबीआई की टीम द्वारा लगातार पूछताछ और छानबीन जारी है। शनिवार को सीबीआई की टीम फिर बिटिया के गांव पहुंची। वहां सीबीआई ने पहले कुछ देर के लिए घटनास्थल का निरीक्षण किया और उसके बाद बिटिया के परिवार वालों से साढ़े पांच घंटे तक पूछताछ की। टीम में इस मामले की जांच कर रहीं डिप्टी एसपी सीमा पाहुजा भी शामिल थीं। टीम ने सबसे पहले गांव के बाहर उस खेत को देखा, जहां घटना हुई थी। चंद मिनट वहां रुकने के बाद टीम बिटिया के घर पहुंच गई। टीम ने पहले तो घर में मौजूद सभी सदस्यों से बातचीत और पूछताछ की। 

 

 

वहीं, जिस छोटू को घटना का चश्मदीद गवाह बताया जा रहा है, उसको बिटिया के परिजनों ने पहचानने से इनकार कर दिया है। पूछताछ के बाद जब सीबीआई की टीम बिटिया घर से चली गई तो बिटिया की भाभी का कहना था कि सीबीआई की टीम उन्हें इस युवक का फोटो मोबाइल फोन पर दिखा रही थी, लेकिन वह इसे नहीं जानती। बिटिया के परिवार वालों से सीबीआई ने काफी सवाल पूछे। परिवार वालों की मानें तो सीबीआई ने उनसे बिटिया के व्यवहार के बारे में पूछा। उसकी भाभी से यह भी पूछा कि क्या वह अलग फोन इस्तेमाल करती हैं तो भाभी ने यही जवाब दिया कि उनके घर में एक ही फोन नंबर है, जोकि उनके पति पर रहता है।

इसके अलावा सीबीआई ने घटना से संबंधित अन्य सवाल भी पूछे। बिटिया की मां से सीबीआई ने काफी देर तक पूछताछ की। वैसे भी भाभी मौके पर मौजूद नहीं थीं। छोटू का फोटो जब बिटिया की भाभी को दिखाया गया तो उसने यह बताया कि यह फोटो वह पहली बार देख रही हैं। परिजनों ने बताया कि सीबीआई की पूछताछ में उन्होंने कोई दबाव महसूस नहीं किया। परिजनों ने बताया कि बिटिया के कुछ कपड़े भी टीम साथ ले गई है।

मालूम हो कि हाथरस कांड पीड़िता के परिजन से मुलाकात करने जा रहे राहुल गांधी और अन्य नेताओं को उत्तर प्रदेश पुलिस ने हिरासत में ले लिया था। इसके विरोध में कांग्रेस ने देशभर में प्रदर्शन किया। कांग्रेस महासचिव ने केसी वेणुगोपाल ने कहा था कि यूपी पुलिस की बर्बरता के खिलाफ देशभर में कांग्रेसी कार्यकर्ता प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि, मैं सभी पीसीसी और कांग्रेस कार्यकर्ताओं से अपील करता हूं की वे राहुल, प्रियंका और पार्टी के अन्य नेताओं की गिरफ्तारी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करें।

बता दें कि हाथरस कांड के खिलाफ देशभर में आक्रोश का माहौल था। इस घटना को लेकर देश के कोने कोने में विरोध प्रदर्शन किया गया था। दिल्ली के जंतर मंतर पर हजारों लोगों की भीड़ ने इस घटना को लेकर आवाज बुलंद की। इस दौरान सिर्फ कांग्रेस ही नहीं बल्कि अन्य कई विपक्षी दलों और सोशल मीडिया पर लोगों ने भी यूपी व योगी सरकार की आलोचना की थी।

उत्तर प्रदेश के हाथरस की घटना के विरोध में कांग्रेस 26 अक्तूबर को देशभर में प्रदर्शन करेगी। इस बात की जानकारी पार्टी सूत्रों ने दी है। सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस 31 अक्तूबर को जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन करेगी।

हाथरस प्रकरण में सीबीआई की टीम द्वारा लगातार पूछताछ और छानबीन जारी है। शनिवार को सीबीआई की टीम फिर बिटिया के गांव पहुंची। वहां सीबीआई ने पहले कुछ देर के लिए घटनास्थल का निरीक्षण किया और उसके बाद बिटिया के परिवार वालों से साढ़े पांच घंटे तक पूछताछ की। टीम में इस मामले की जांच कर रहीं डिप्टी एसपी सीमा पाहुजा भी शामिल थीं। टीम ने सबसे पहले गांव के बाहर उस खेत को देखा, जहां घटना हुई थी। चंद मिनट वहां रुकने के बाद टीम बिटिया के घर पहुंच गई। टीम ने पहले तो घर में मौजूद सभी सदस्यों से बातचीत और पूछताछ की। 

 

 

वहीं, जिस छोटू को घटना का चश्मदीद गवाह बताया जा रहा है, उसको बिटिया के परिजनों ने पहचानने से इनकार कर दिया है। पूछताछ के बाद जब सीबीआई की टीम बिटिया घर से चली गई तो बिटिया की भाभी का कहना था कि सीबीआई की टीम उन्हें इस युवक का फोटो मोबाइल फोन पर दिखा रही थी, लेकिन वह इसे नहीं जानती। बिटिया के परिवार वालों से सीबीआई ने काफी सवाल पूछे। परिवार वालों की मानें तो सीबीआई ने उनसे बिटिया के व्यवहार के बारे में पूछा। उसकी भाभी से यह भी पूछा कि क्या वह अलग फोन इस्तेमाल करती हैं तो भाभी ने यही जवाब दिया कि उनके घर में एक ही फोन नंबर है, जोकि उनके पति पर रहता है।

इसके अलावा सीबीआई ने घटना से संबंधित अन्य सवाल भी पूछे। बिटिया की मां से सीबीआई ने काफी देर तक पूछताछ की। वैसे भी भाभी मौके पर मौजूद नहीं थीं। छोटू का फोटो जब बिटिया की भाभी को दिखाया गया तो उसने यह बताया कि यह फोटो वह पहली बार देख रही हैं। परिजनों ने बताया कि सीबीआई की पूछताछ में उन्होंने कोई दबाव महसूस नहीं किया। परिजनों ने बताया कि बिटिया के कुछ कपड़े भी टीम साथ ले गई है।

मालूम हो कि हाथरस कांड पीड़िता के परिजन से मुलाकात करने जा रहे राहुल गांधी और अन्य नेताओं को उत्तर प्रदेश पुलिस ने हिरासत में ले लिया था। इसके विरोध में कांग्रेस ने देशभर में प्रदर्शन किया। कांग्रेस महासचिव ने केसी वेणुगोपाल ने कहा था कि यूपी पुलिस की बर्बरता के खिलाफ देशभर में कांग्रेसी कार्यकर्ता प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि, मैं सभी पीसीसी और कांग्रेस कार्यकर्ताओं से अपील करता हूं की वे राहुल, प्रियंका और पार्टी के अन्य नेताओं की गिरफ्तारी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करें।

बता दें कि हाथरस कांड के खिलाफ देशभर में आक्रोश का माहौल था। इस घटना को लेकर देश के कोने कोने में विरोध प्रदर्शन किया गया था। दिल्ली के जंतर मंतर पर हजारों लोगों की भीड़ ने इस घटना को लेकर आवाज बुलंद की। इस दौरान सिर्फ कांग्रेस ही नहीं बल्कि अन्य कई विपक्षी दलों और सोशल मीडिया पर लोगों ने भी यूपी व योगी सरकार की आलोचना की थी।





Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*