विश्व में संक्रमितों की संख्या डेढ़ करोड़ के पार, अमेरिका में एक दिन में 41586 संक्रमित


कोरोना वायरस (फाइल फोटो)
– फोटो : PTI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें

दुनिया में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ती जा रही है। वर्ल्डोमीटर के मुताबिक विश्व में कोरोना संक्रमितों की संख्या 10,512,726 हो गई है। जबकि 5,730,230 मरीज ठीक हुए हैं। वहीं मृतकों की संख्या बढ़कर 511,015 हो गई है।

इस बीच अमेरिका में संक्रमण के 24 घंटे में 41,586 मामले सामने आने से हालात विकट होते दिख रहे हैं। जबकि डब्ल्यूएचओ पर लग रहे आरोपों के बीच विश्व निकाय ने वायरस के स्रोत का पता लगाने के लिए एक टीम चीन भेजने की बात कही है। 

डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस गेब्रियेसिस ने कहा कि अब यह जानना बेहद जरूरी हो गया है कि आखिर कोरोना वायरस की उत्पत्ति कहां से हुई है। उन्होंने चेताया कि अभी संक्रमण का इससे भी बुरा दौर आना बाकी है। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि कोविड-19 संकट से जूझ रहे सभी देश आने वाले महीनों में सामान्य होंगे, क्योंकि महामारी विश्व के एक करोड़ से अधिक लोगों को पहले ही संक्रमित कर चुकी है।

इनमें पांच लाख से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं। अमेरिका में 24 घंटे में 338 लोगों की मौत हुई है। देश में देश में अब तक 26 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। वहीं, कुल मौतों की संख्या 1.28 लाख के पार है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने आशंका जताई है कि अमेरिका और ब्राजील समेत कुछ देशों में संक्रमण की दूसरी लहर का खतरा बरकरार है। बता दें कि दुनिया की एक चौथाई मौतें अकेले अमेरिका में हुई हैं।

हाल ही में किए गए दो नए अध्ययन के अनुसार अमेरिका में कम से कम 285 बच्चे कोरोना वायरस जैसे हालातों से प्रभावित हैं। इनमें से छह की मौत हुई है। इससे संबंधित रिपोर्ट न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में ऑनलाइन प्रकाशित की गई है।

इस स्थिति को बच्चों में मल्टी सिस्टम इंफ्लामेटरी सिंड्रोम के रूप में जाना जाता है। इस शिकायत के चलते अस्पताल में भर्ती हुए बच्चों का संबंध कोरोना से माना जा रहा है। एक अन्य शोध के अनुसार दुनिया भर में लगभग 1,000 बच्चे इससे प्रभावित हुए हैं।

नेपाल में 22 जुलाई तक बढ़ाया लॉकडाउन
कोविड-19 मामलों में वृद्धि को देखते हुए नेपाल सरकार ने देश में लगाए गए लॉकडाउन को 22 जुलाई तक बढ़ाने की घोषणा की है। सरकार ने 15 जून को सामाजिक दूरी, निजी वाहनों को ऑड और ईवन के आधार पर, और अन्य नियमों के साथ लॉकडाउन का स्वरूप बदल दिया था।

दुनिया के सबसे प्रभावित देशों में से एक ब्रिटेन (यूके) में संदिग्ध मामलों सहित कोविड-19 से मरने वालों की संख्या 54,852 हो गई है। आधिकारिक जानकारी के अनुसार इंग्लैंड, वेल्स और उत्तरी आयरलैंड में मरने वालों के मृत्यु प्रमाण पत्रों पर 19 जून तक और स्कॉटलैंड में 21 जून तक उल्लेख किया गया था। इसमें हाल ही में अस्पताल में हुई मौतें भी शामिल हैं। 

पाकिस्तान : सामने आए 2,846 नए मामले 
पाकिस्तान में पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के 2,846 नए मामले सामने आए हैं। राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा मंत्रालय के अनुसार देश भर में कोरोना के 2,09,337 मामले हैं, जबकि 118 लोगों की मौत के साथ मरने वालों की संख्या 4,304 तक पहुंच गई है।

दुनिया में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ती जा रही है। वर्ल्डोमीटर के मुताबिक विश्व में कोरोना संक्रमितों की संख्या 10,512,726 हो गई है। जबकि 5,730,230 मरीज ठीक हुए हैं। वहीं मृतकों की संख्या बढ़कर 511,015 हो गई है।

इस बीच अमेरिका में संक्रमण के 24 घंटे में 41,586 मामले सामने आने से हालात विकट होते दिख रहे हैं। जबकि डब्ल्यूएचओ पर लग रहे आरोपों के बीच विश्व निकाय ने वायरस के स्रोत का पता लगाने के लिए एक टीम चीन भेजने की बात कही है। 

डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस गेब्रियेसिस ने कहा कि अब यह जानना बेहद जरूरी हो गया है कि आखिर कोरोना वायरस की उत्पत्ति कहां से हुई है। उन्होंने चेताया कि अभी संक्रमण का इससे भी बुरा दौर आना बाकी है। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि कोविड-19 संकट से जूझ रहे सभी देश आने वाले महीनों में सामान्य होंगे, क्योंकि महामारी विश्व के एक करोड़ से अधिक लोगों को पहले ही संक्रमित कर चुकी है।

इनमें पांच लाख से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं। अमेरिका में 24 घंटे में 338 लोगों की मौत हुई है। देश में देश में अब तक 26 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। वहीं, कुल मौतों की संख्या 1.28 लाख के पार है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने आशंका जताई है कि अमेरिका और ब्राजील समेत कुछ देशों में संक्रमण की दूसरी लहर का खतरा बरकरार है। बता दें कि दुनिया की एक चौथाई मौतें अकेले अमेरिका में हुई हैं।


आगे पढ़ें

गंभीर हालातों से 285 अमेरिकी बच्चे प्रभावित



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*