‘श्रीनिवासन पिता जैसे, बाप को है बेटे को डांटने का हक,’ रैना ने दिए यूएई लौटने के संकेत


चेन्नई सुपरकिंग्स (सीएसके) के लिए यह एक उम्मीद भरी खबर हो सकती है। 29 अगस्त को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से स्वदेश लौटे सुरेश रैना ने दोबारा इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में खेलने के संकेत दिए हैं। एक इंटरव्यू में रैना ने श्रीनिवासन को पिता समान बताया। साथ ही कहा कि बाप को बेटे को डांटने का हक है। बता दें कि सुरेश रैना आईपीएल 2020 को छोड़कर भारत लौट आए हैं। रैना की लौटने की वजह साफ न होने से कई प्रकार के कयास लगाए गए।

अब इस स्टार खिलाड़ी ने अपने लौटने का वास्तविक कारण बताया है। सुरेश रैना ने क्रिकबज से बातचीत में कहा, ‘सीएसके आज भी मेरे परिवार की तरह है। उसे छोड़कर स्वदेश लौटने का फैसला आसान नहीं था। लेकिन परिवार को यहां ज्यादा जरूरत थी। मेरे और सीएसके के बीच अब भी गहरा नाता है। धोनी भाई मेरी जिंदगी में खास स्थान रखते हैं।’ सीएसके से विवाद को लेकर 32 साल के इस बाएं हाथ के बल्लेबाज ने कहा, ‘कोई भी 12.5 करोड़ रुपए को यूं ही पीठ नहीं दिखा सकता। इसके पीछे एक ठोस कारण चाहिए। मैं भले ही इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट ले चुका हूं। लेकिन मैं अब भी जवान हूं। मैं उनके लिए आने वाले 4-5 साल और खेलना चाहता हूं।’

रैना के भारत लौटने के फैसले के बाद खबरें आईं कि चेन्नई सुपरकिंग्स के खिलाड़ियों और स्टाफ के कोरोना टेस्ट पॉजिटिव निकले तो वह डर गए। इसी कारण वह यूएई में रुकने को तैयार नहीं हुए। इसके बाद खबरें आईं रैना को दुबई के ताज होटल में रूम को लेकर इश्यू था। उनके रूम में बालकनी नहीं थी। इस कारण वह नाराज थे, इसलिए भारत लौट आए।

चेन्नई सुपरकिंग्स के मालिक एन. श्रीनिवासन ने भी रैना के खिलाफ बयान दे डाला। श्रीनिवासन ने कहा था कि कामयाबी ने इस क्रिकेटर को तुनकमिजाज बना दिया है। हालांकि, अगले ही दिन उन्होंने स्पष्ट किया कि उनके बयान को गलत अर्थों में पेश किया गया। श्रीनिवासन ने कहा कि उन्होंने रैना को लेकर ऐसा नहीं बोला था।

श्रीनिवासन को लेकर रैना ने कहा, ‘वह मेरे पिता समान हैं। वह मेरे साथ अपने बेटे की तरह व्यव्हार करते हैं। मुझे विश्वाश है, उन्होंने जो भी कहा है उसे गलत संदर्भ में लिया गया है। एक बाप को बेटे को डांटने का हक होता है। मैं लौटा तो उन्हें इसका कारण नहीं पता था। जब बाद में उन्हें इसका पता चला तो उन्होंने मुझे मैसेज भी किया।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। में रुचि है तो



सबसे ज्‍यादा पढ़ी गई






Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*