Covid-19: लोकल ट्रेन से यात्रा कर सकेंगे मुंबई के डब्बावाले और वाणिज्य दूतावास कर्मी


मुंबई में एक डब्बावाला
– फोटो : twitter.com/chitralekhamag

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

मुंबई के डब्बावालों और विदेशी वाणिज्यिक दूतावासों व उच्चायोग के कर्मचारियों को लोकल ट्रेन में सफर करने की अनुमति दे दी गई है। अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी। बता दें कि वर्तमान में लोकल ट्रेन केवल आवश्यक सेवाओं से जुड़े कर्मचारियों के लिए चलाई जा रही है।

मुंबई में खाने के डिब्बे पहुंचाने वाले प्रसिद्ध डब्बावालों ने पिछले महीने कहा था कि टिफिन सेवा के 130 साल के इतिहास में कभी भी छह महीने का अंतराल नहीं आया था। डब्बावालों ने पूरी क्षमता के साथ अपनी सेवा बहाल करने के लिए लोकल ट्रेन की सुविधा दिए जाने की मांग की थी।

कोविड-19 प्रतिबंधों के चलते, केवल वही डब्बावाले सेवाएं दे रहे हैं, जो दक्षिण मुंबई में साइकिल से जा सकते हैं। मंगलवार से लोकल ट्रेन में यात्रा करने की अनुमति मिलने के बाद उन्होंने प्रसन्नता जाहिर की है। बता दें कि  महानगर में पांच हजार से अधिक डब्बावाले टिफिन पहुंचाने का काम करते हैं।

पश्चिमी रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुमित ठाकुर ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार की ओर से 30 सितंबर को जारी ‘अनलॉक’ दिशा-निर्देशों के अनुसार उन्होंने डब्बावालों को लोकल ट्रेन में यात्रा करने की अनुमति दे दी है। उन्होंने कहा, रेलवे द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार विदेशी वाणिज्यिक दूतावासों और उच्चायोग के कर्मचारियों को भी लोकल ट्रेन में यात्रा करने की अनुमति दी गई है।

मुंबई में टिफिन पहुंचाने का काम करने वाले पांच हजार से अधिक डब्बावाले कोविड-19 महामारी फैलने से पहले सामान्य दिनों में कार्यालय जाने वाले लोगों तक दो लाख से अधिक टिफिन पहुंचाते थे। समय पर टिफिन पहुंचाने के लिए ये उपनगरीय ट्रेन सेवा का सहारा लेते थे।

मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी शिवाजी सुतार ने कहा कि लोकल ट्रेन में यात्रा करने के लिए राज्य सरकार की ओर से जारी क्यूआर कोड वाले पहचान पत्र अनिवार्य होंगे लेकिन डब्बावालों ने अनुरोध किया है कि उन्हें उनके पहचान पत्र के आधार पर यात्रा करने की अनुमति दी जाए।

मुंबई के डब्बावालों और विदेशी वाणिज्यिक दूतावासों व उच्चायोग के कर्मचारियों को लोकल ट्रेन में सफर करने की अनुमति दे दी गई है। अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी। बता दें कि वर्तमान में लोकल ट्रेन केवल आवश्यक सेवाओं से जुड़े कर्मचारियों के लिए चलाई जा रही है।

मुंबई में खाने के डिब्बे पहुंचाने वाले प्रसिद्ध डब्बावालों ने पिछले महीने कहा था कि टिफिन सेवा के 130 साल के इतिहास में कभी भी छह महीने का अंतराल नहीं आया था। डब्बावालों ने पूरी क्षमता के साथ अपनी सेवा बहाल करने के लिए लोकल ट्रेन की सुविधा दिए जाने की मांग की थी।

कोविड-19 प्रतिबंधों के चलते, केवल वही डब्बावाले सेवाएं दे रहे हैं, जो दक्षिण मुंबई में साइकिल से जा सकते हैं। मंगलवार से लोकल ट्रेन में यात्रा करने की अनुमति मिलने के बाद उन्होंने प्रसन्नता जाहिर की है। बता दें कि  महानगर में पांच हजार से अधिक डब्बावाले टिफिन पहुंचाने का काम करते हैं।

पश्चिमी रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुमित ठाकुर ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार की ओर से 30 सितंबर को जारी ‘अनलॉक’ दिशा-निर्देशों के अनुसार उन्होंने डब्बावालों को लोकल ट्रेन में यात्रा करने की अनुमति दे दी है। उन्होंने कहा, रेलवे द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार विदेशी वाणिज्यिक दूतावासों और उच्चायोग के कर्मचारियों को भी लोकल ट्रेन में यात्रा करने की अनुमति दी गई है।

मुंबई में टिफिन पहुंचाने का काम करने वाले पांच हजार से अधिक डब्बावाले कोविड-19 महामारी फैलने से पहले सामान्य दिनों में कार्यालय जाने वाले लोगों तक दो लाख से अधिक टिफिन पहुंचाते थे। समय पर टिफिन पहुंचाने के लिए ये उपनगरीय ट्रेन सेवा का सहारा लेते थे।

मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी शिवाजी सुतार ने कहा कि लोकल ट्रेन में यात्रा करने के लिए राज्य सरकार की ओर से जारी क्यूआर कोड वाले पहचान पत्र अनिवार्य होंगे लेकिन डब्बावालों ने अनुरोध किया है कि उन्हें उनके पहचान पत्र के आधार पर यात्रा करने की अनुमति दी जाए।





Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*