Diwali 2020: इस दिवाली मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए इनमें से लगाएं कोई एक भोग, आप भी जान लीजिए


दिवाली पूजा में प्रसाद का विशेष महत्व होता है। मान्यता है कि पूजा के दौरान मां लक्ष्मी का आगमन होता है। इसलिए घर के द्वार पर देवी के पैरों की छाप और शुभ चिन्ह बनाए जाते हैं। लक्ष्मी पूजन में जितना विधि-विधान से पूजा करने का महत्व है, उतना ही प्रसाद को भी प्राथमिकता दी जाती है।

1. मखाना- कहा जाता है कि मखाना देवी लक्ष्मी को अतिप्रिय है। मखाना कमल के फूल के बीज से बनता है, इसलिए इसे फूल मखाना भी कहा जाता है। मां लक्ष्मी को अतिप्रिय होने के कारण यह अनिवार्य रूप से चढ़ता है। मखाने की खीर बनाकर या मखाने को घी में तलकर दिवाली के दिन मां लक्ष्मी को भोग लगाया जाता है।

शुभ दिवाली आज, जान लें मां लक्ष्मी-भगवान गणेश की पूजा विधि, शुभ मुहूर्त और पूजन सामग्री लिस्ट

2. नारियल- दिवाली के दिन मां लक्ष्मी को नारियल का भोग लगाना शुभ माना जाता है। नारियल को देवी लक्ष्मी का प्रतीक मानते हैं। ऐसा कहा जाता है कि दिवाली पर नारियल का प्रसाद चढ़ाने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।

3. बताशे– देवी लक्ष्मी को चंद्रमा की बहन माना जाता है। बताशे का संबंध चंद्रमा से है, इसलिए मां लक्ष्मी को बताशा अतिप्रिय है। दिवाली के दिन बताशे और चीनी के खिलौने मां को प्रसाद के रूप में चढ़ाते हैं। कहते हैं कि ऐसा करने से मां लक्ष्मी की कृपा बरसती है।

Happy Diwali 2020: दिवाली पर इन SMS के साथ इन अंदाज में दें दिवाली की शुभकामनाएं

4. पान- दिवाली की पूजा के दौरान सभी भोग मां लक्ष्मी को पहले चढ़ा दिए जाते हैं, लेकिन पान को सबसे आखिरी में अर्पित किया जाता है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, यूं तो मां लक्ष्मी को मीठा पान भोग में चढ़ाया जाता है, अगर मीठा पान उपलब्ध नहीं है को सादे पत्ते को भी अर्पित किया जा सकता है।

5. सिंघाड़ा- मां लक्ष्मी को भोग में सिघाड़ा भी अर्पित किया जाता है। कहते हैं कि कमल, मखाना, ककड़ी के अलावा सिंघाड़ा भी अतिप्रिय होता है। दिवाली पूजा में मां लक्ष्मी को हरे और काले दोनों रंग के सिंघाड़े मां को अर्पित किए जा सकते हैं।

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

 



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*