Diwali 2020: दिवाली पर इन चीजों का कभी न करें दान, घर आती है दरिद्रता और मां लक्ष्मी का नहीं होता स्थायी वास


दिवाली का त्योहार 14 नवंबर 2020 यानी आज पूरे देश में धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है। मान्यता है कि इस दिन ही भगवान श्रीराम अयोध्या वापस लौटे थे और अयोध्यावासियों ने दीए जलाकर उनका स्वागत किया था। कहते हैं कि दिवाली के दिन कुछ चीजों का दान नहीं करना चाहिए, ऐसा करने से घर में दरिद्रता आती है।

दीपावली पर किन चीजों का नहीं करना चाहिए दान (Diwali Per In Chizo ka Na Kare Daan)-

1. कहते हैं कि दिवाली के दिन झाड़ू का दान नहीं करना चाहिए। झाड़ू को मां लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है। दिवाली के दिन झाड़ू का दान करने से मां लक्ष्मी का घर में स्थायी वास नहीं होता है।

2. दिवाली के दिन खिचड़ी आदि का दान नहीं करना चाहिए। कहते हैं कि दीपावली के दिन न तो कच्चा खाना खाया जाता है और न ही उसका दान किया जाता है।

इस दिवाली इन राशियों पर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपा, क्या लिस्ट में आपकी राशि भी है शामिल?

3. कहा जाता है कि दिवाली के दिन मां लक्ष्मी और भगवान गणेश के पूजन के बाद प्रसाद को बाहरी लोगों को नहीं बांटना चाहिए और न ही किसी को दान देना चाहिए।

4. दिवाली के दिन नारियल, बादाम आदि चीजों का दान नहीं करना चाहिए। क्योंकि यह सभी चीजें मां लक्ष्मी का प्रतीक मानी जाती हैं।

5. कहा जाता है कि दिवाली के दिन सरसों के तेल का नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से मां लक्ष्मी रूठ जाती हैं और घर में उनका स्थायी वास नहीं होता है।

इस दिवाली कर्ज मुक्ति से लेकर नौकरी पाने तक के लिए करें ये आसान उपाय, मां लक्ष्मी की बरसती है कृपा

6.  कहा जाता है कि दिवाली के दिन किसी को धन का दान नहीं करना चाहिए। इसके बजाए कोई सामान या वस्तु खरीदकर दान की जा सकती है।

7. दिवाली के दिन चावल और दूध से बनी चीजों का दान नहीं करना चाहिए। मान्यता है कि सफेद वस्तुएं मां लक्ष्मी की प्रतीक हैं।

8. दिवाली वाले दिन किसी को मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की प्रतिमा या मूर्ति का दान नहीं करना चाहिए। कहते हैं कि ऐसा करने से घर में दरिद्रता आती है।

(इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।)  
 



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*