Exclusive : Dhoni के कैप्टन कूल बनने से पहले का सफर


1998 से 2002 के बीच महेंद्र सिंह धोनी ने सीसीएल में आदिल हुसैन की कप्तानी में खेला.

नई दिल्ली:

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) ने एक बार फिर अपने ही अंदाज़ में सभी को चौंकाते हुए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर दिया.  15 अगस्त की शाम सोशल मीडिया पर एक भावुक पोस्ट करते हुए उन्होंने अपने फैंस को अलविदा कहा. उन्होंने इंस्टाग्राम पर लिखा, “प्यार और समर्थन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद. मुझे रिटायर्ड मान लिया जाए.अब एमएस धोनी न वनडे की टीम इंडिया की जर्सी में नजर आएंगे और न ही टी20 खेलते दिखाई पड़ेंगे, लेकिन माही चेन्नई सुपर किंग्स (Chennai Super Kings) के लिए इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) में खेलना जारी रखेंगे. धोनी टेस्ट फॉर्मेट से काफी पहले ही सन्यास ले चुके हैं.

jnjbkvf8

यह भी पढ़ें

इतने मशहूर माही के अब भी कई पहलू हैं जिन्हें जानने को फैंस बेताब नज़र आते हैं.  जब धोनी भारतीय टीम के लिए खेलने से पहले  सीसीएल (CCL) के लिए खेले तो वो बारहवीं कक्षा में पढ़ रहे थे . 1998 से 2002 महेंद्र सिंह धोनी ने सीसीएल में आदिल हुसैन की कप्तानी में खेला.

upcorkbo

 महेन्द्र सिंह धोनी के  सीसीएल के पूर्व कप्तान आदिल हुसैन एनडीटीवी से पुरानी यादों को ताज़ा करते हुए कहते हैं कि स्कूल टाइम से ही धोनी को अपने हुनर पर काफी भरोसा था, ऐसा लगता था की सिर्फ और सिर्फ क्रिकेट ही उसकी लाइफ है और शायद यही वजह थी की उसने रेलवे की नौकरी से इस्तीफा दिया.  

gd8chccg

अपने क्रिकेट करियर में इतने सफल क्रिकेटर होने के बाद वो आज भी बहुत विनम्र हैं.  वो आज भी अपने पुराने साथियों को याद रखते हैं,  यही उनकी अपनी असल पहचान है.  

 

l3mv6tr


आदिल हुसैन आगे कहते हैं, ” वो आत्मविश्वास से लबालब थे और क्रिकेट को लेकर उनका बेइंतेहा फोकस काबीले तारीफ था , स्कूल के दिनों से वो अपनी टीम के लिए एक बहुत बड़े मैच विनर के तौर पर देखे जाते थे ! अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में आने से पहले धोनी ने काफी संघर्ष किया ! और शायद ये एक वजह थी कि छोटी मोटी बातें उनको खेलते हुए कभी ज़हन में नहीं आती थी , इसलिए वो खुल कर अपने जौहर को  दिखाकर  दुनिया को अपना लोहा मानवा ही लेते थे ! ” 

pke2id28


अपनी पुरानी यादों को आगे साझा करते हुए आदिल हुसैन कहते हैं कि इतने  सफल क्रिकेटर और इतने मशहूर स्टार के बावजूद आज तक वो अपने व्यवहार से किसी को दुःख नहीं पहुंचाया ! जब भी वो अपने दोस्तों और पुराने क्रिकेटर के साथ रहते थे तो कभी भी ये महसूस नहीं होने दिया की वो एक बहुत बड़ा स्टार हैं, आदिल कहते हैं कि धोनी जब भी उनके घर आते तो क्रकेट का तुल्फ उठाते थे , घर के अंदर ही बैट उठाते और शुरू होते , जब उनको भूख लगती तो मां से कहते की मां खाने का वक्त आ गया है , फिर सब बैठ कर साथ खाना खाते.

पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को कहा अलविदा | पढ़ें



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*