JEE 2020 लास्ट अटेम्प्ट वाले अभ्यर्थियों ने शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल को लिखा पत्र, की एक और चांस देने की मांग


भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (IITs) के ज्वॉइंट एडमिशन बोर्ड (JAB) द्वारा कोरोना पॉजिटिव छात्रों को जेईई परीक्षा के लिए एक और मौका देने का फैसला करने के बाद अब जेईई परीक्षा का आखिरी प्रयास पूरा कर चुके अभ्यर्थियों ने केद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को पत्र लिखकर 2021 में एक बार और परीक्षा में शामिल होने की छूट देने की मांग की है।

जेईई के नियम के अनुसार, एक छात्र को 12वीं कक्षा पास करने के बाद जेईई मेन्स में तीन बार और जेईई एडवांस्ड में दो बार शामिल होने का मौका दिया जाता है। छात्रों के एक समूह द्वारा रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ दिए आवेदन में मांग की गई है कि उन्हें 2021 की परीक्षा में एक और आखिरी मौका दिया जाना चाहिए।

निशंक को लिखे पत्र में कहा गया है, ‘इस साल, जेईई परीक्षाओं (मेन्स और एडवांस्ड) अप्रैल-मई में आयोजित की जानी थीं लेकिन कोरोना महामारी के कारण इन्हें सितंबर में आयोजित कराया गया। जेईई मेन के लिए 8.41 लाख छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया था जिनमें से कोरोना के कारण 6.35 लाख छात्रों ने ही परीक्षा में भाग लिया।’

आगे लिखा गया है कि इसका मतलब है कि लाखों छात्रों ने लॉकडाउन, परिवहन की ठीक व्यवस्था न होने या महामारी के डर से परीक्षा में भाग नहीं लिया।

हाल में जैब ने अपने एक नोटिस में कहा था कि जिन छात्रों ने कोरोना पॉजिटिव होने के कारण जेईई एडवांस में भाग नहीं ले सके उन्हें परीक्षा में भाग लेने का एक और मौका दिया जाएगा।

13 अक्टूबर को हुई जैब की वर्चुअल मीटिंग में छात्रों के लिए योग्यता के नियमों कुछ छूट देने का फैसला लिया गया। मीटिंग में यह भी फैसला किया गया था कि जो छात्र जेईई एडवांस 2020 के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था लेकिन कोरोना पॉजिटिव होने के कारण जेईई एडवांस में भाग नहीं ले पाए उन्हें एक बार 2021 में मौका दिया जाएगा।

हालांकि छात्रों ने देश के भागों में कोरोना के अलावा बाढ़ का भी जिक्र किया जिससे वे परीक्षा में भाग नहीं ले पाए। हालात को आसाधारण बताते हुए छात्रों व उनके अभिभावकों ने जेईई के लिए एक और आखिरी मौका देने की मांग की है। 



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*