ODI Cricket में किंग हैं Mahendra Singh Dhoni, यकीन न हो तो ये ये रिकॉर्ड देख लें


ODI Cricket के आंकड़े यह साबित करते हैं कि इस फॉर्मेट में Mahendra Singh Dhoni किंग हैं। इतना ही नहीं, सीमित ओवर के क्रिकेट में वह बेस्ट फिनिशर हैं।

नई दिल्ली : टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) ने 15 अगस्त 2020 को शाम सात बज कर 29 मिनट पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। लेकिन उनका अंतरराष्ट्रीय करियर बतौर खिलाड़ी और कप्तान दोनों लिहाज से शानदार रहा है। अगर एकदिवसीय क्रिकेट (ODI Cricket) की बात करें तो आंकड़े यह साबित करते हैं कि इस फॉर्मेट के किंग हैं। इतना ही नहीं उन्हें सीमित ओवर के क्रिकेट का बेस्ट फिनिशर भी माना जाता है। आइए जानते हैं उनके कुछ शानदार रिकॉर्ड।

ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड दौरे के लिए किया टीम का ऐलान, Aaron Finch के नेतृत्व में जानें किन्हें मिली जगह

50 से अधिक की औसत से 10 हजार से अधिक रन

एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में महेंद्र सिंह धोनी विश्व के उन चुनिंदा 14 खिलाड़ियों की लिस्ट में शामिल हैं, जिन्होंने 10,000 से अधिक रन बनाए हैं। 10 हजार क्लब में पहुंचने वाले दिग्गज मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar), श्रीलंका के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज और कप्तान कुमार संगकारा (Kumar Sangakkara), सनथ जयसूर्या (Sanath jaysuriya) और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग (Ricky Ponting), विंडीज के दिग्गज ब्रायन लारा (Brian Lara), क्रिस गेल (Chris Gayle) जैसे धाकड़ बल्लेबाजों से भी वह इस मामले में एक कदम आगे हैं, कि वह विराट कोहली (Virat Kohli) के बाद सिर्फ दूसरे ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने 50 के अधिक की औसत से इतने रन बनाए हैं। इनमें से सबसे ऊपर विराट कोहली ने अब तक 59.33 की औसत से 11,867 रन बनाए हैं तो वहीं धोनी ने 350 मैचों में 50.57 की औसत से 10,773 रन बनाए हैं। इतना ही नहीं, वह पहले खिलाड़ी हैं, जिसने 50 से अधिक की औसत से 10,000 रन बनाए।

AUS vs ENG : सितंबर में ऑस्ट्रेलिया इंग्लैंड से खेलेगी 3 T20I और इतने ही ODI, यह है पूरा कार्यक्रम

एकदिवसीय क्रिकेट के ये रिकॉर्ड भी हैं शानदार

महेंद्र सिंह धोनी को वनडे और टी-20 क्रिकेट का सर्वश्रेष्ठ फिनिशर माना जाता है। इसका कारण यह है कि वह मैच को अंत तक ले जाते हैं और फिर बाउंड्री मारकर उसे जीता देते थे। इस क्रम में वह दबाव में जल्दी आउट नहीं होते थे। अक्सर एक छोर से नाबाद लौटते थे। यही कारण है कि एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा 84 बार नॉटआउट रहने का रिकॉर्ड भी उनके नाम है। इसके अलावा एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा 123 स्टंपिंग का रिकॉर्ड भी धोनी के नाम है।














Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*