PHOTOS में कश्मीर की सियासत: नेहरू से मोदी तक प्रधानमंत्रियों ने अमन बहाली की कोशिश की; भाजपा PDP के साथ गठबंधन कर पहली बार सत्ता में आई


  • Hindi News
  • National
  • PM Narendra Modi Jammu And Kashmir Leaders Meeting Updates In Latest Photos

नई दिल्ली/श्रीनगर6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

2015 में PDP के संस्थापक मुफ्ती मोहम्मद सईद के नेतृत्व में जम्मू-कश्मीर में नई सरकार बनी थी। पार्टी ने प्रदेश में पहली बार BJP के साथ गठबंधन किया था। सईद के शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हुए थे।

जम्मू कश्मीर देश की आजादी के बाद से ही विवादों के साये में रहा है। भारत-पाकिस्तान के बीच पहले युद्ध की वजह बना यह विवाद सियासी न रहकर एक समय बाद आतंकवाद की राह पर चला गया। इस दौरान दिल्ली से रिश्ते सुधारने की कोशिशें चलती रहीं।

हर सरकार जम्मू-कश्मीर को खास तवज्जो देती रही ताकि अलगाववादी अपनी जड़ें न फैला सकें। इसके बावजूद दिलों की दूरियां अब भी कायम हैं। फोटोज में देखिए दिल्ली और कश्मीर के नेताओं ने कब-कब सुलह की गंभीर कोशिशें कीं। देखिए ऐसे की मौकों की कुछ खास तस्वीरें…

कश्मीर के सबसे बड़े नेता कहे जाने वाले शेख मोहम्मद अब्दुल्ला के साथ प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू। दोनों के रिश्ते कभी एक जैसे नहीं रहे। 1953 में जम्मू-कश्मीर की सत्ता से हटाए जाने के बाद करीब 22 साल बाद अब्दुल्ला 1975 में मुख्यमंत्री बने थे।

कश्मीर के सबसे बड़े नेता कहे जाने वाले शेख मोहम्मद अब्दुल्ला के साथ प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू। दोनों के रिश्ते कभी एक जैसे नहीं रहे। 1953 में जम्मू-कश्मीर की सत्ता से हटाए जाने के बाद करीब 22 साल बाद अब्दुल्ला 1975 में मुख्यमंत्री बने थे।

प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के साथ कश्मीरी नेता बख्शी गुलाम मोहम्मद और जीएम सादिक। बख्शी गुलाम मोहम्मद 1953 से 1964 तक जम्मू-कश्मीर के प्रधानमंत्री रहे थे। मार्च 1965 में प्रधानमंत्री पद खत्म होने के बाद जीएम सादिक जम्मू-कश्मीर के पहले मुख्यमंत्री बनाए गए थे।

प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के साथ कश्मीरी नेता बख्शी गुलाम मोहम्मद और जीएम सादिक। बख्शी गुलाम मोहम्मद 1953 से 1964 तक जम्मू-कश्मीर के प्रधानमंत्री रहे थे। मार्च 1965 में प्रधानमंत्री पद खत्म होने के बाद जीएम सादिक जम्मू-कश्मीर के पहले मुख्यमंत्री बनाए गए थे।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रहे वीपी सिंह और मुफ्ती मोहम्मद सईद ने 13 नवंबर, 1988 को श्रीनगर में एक बड़ी जनसभा की थी। इस दौरान उन्होंने मुफ्ती मोहम्मद सईद (बाएं) और दूसरे स्थानीय नेताओं के साथ जन मोर्चा (पीपुल्स फ्रंट) नाम की एक नई राजनीतिक पार्टी शुरू की।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रहे वीपी सिंह और मुफ्ती मोहम्मद सईद ने 13 नवंबर, 1988 को श्रीनगर में एक बड़ी जनसभा की थी। इस दौरान उन्होंने मुफ्ती मोहम्मद सईद (बाएं) और दूसरे स्थानीय नेताओं के साथ जन मोर्चा (पीपुल्स फ्रंट) नाम की एक नई राजनीतिक पार्टी शुरू की।

2004 में अटल बिहारी वाजपेयी ने दिल्ली में हुर्रियत नेताओं से मुलाकात की थी। यह किसी भारतीय प्रधानमंत्री और अलगाववादी नेताओं के बीच पहली मुलाकात थी। वाजपेयी ने हुर्रियत के साथ बिना शर्त बातचीत की पेशकश कर कश्मीर मसले को सुलझाने की कोशिश की थी।

2004 में अटल बिहारी वाजपेयी ने दिल्ली में हुर्रियत नेताओं से मुलाकात की थी। यह किसी भारतीय प्रधानमंत्री और अलगाववादी नेताओं के बीच पहली मुलाकात थी। वाजपेयी ने हुर्रियत के साथ बिना शर्त बातचीत की पेशकश कर कश्मीर मसले को सुलझाने की कोशिश की थी।

7 जनवरी 2016 को मुफ्ती मोहम्मद सईद के निधन के ढाई महीने के बाद 4 अप्रैल 2016 को महबूबा मुफ्ती जम्मू-कश्मीर की पहली महिला मुख्यमंत्री बनीं। शुरुआत में भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ उनके अच्छे संबंध रहे लेकिन, 2018 में यह गठबंधन टूट गया।

7 जनवरी 2016 को मुफ्ती मोहम्मद सईद के निधन के ढाई महीने के बाद 4 अप्रैल 2016 को महबूबा मुफ्ती जम्मू-कश्मीर की पहली महिला मुख्यमंत्री बनीं। शुरुआत में भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ उनके अच्छे संबंध रहे लेकिन, 2018 में यह गठबंधन टूट गया।

खबरें और भी हैं…



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*